کلاسک

 
    
  मुड्ढला वरका > हिंदी विचार > आखिआ वारिस शाह ने
   
 
हीर वारिस शाह बंद: 27 हीर वारिस शाह बंद: 27

रूह छड्ड कलबूत जिउं विदा हुंदा, तिवें इह दरवेश सुधारिआ ई इन पानी हज़ारे दा किसम करके कसद झंग सिआल चितारिआ ई कीता रिज़क ते आब उदास रांझा चलो चल ही जीव पुकारिआ ई कच्छे वंझली मार के रवां होया वारिस वतन ते देस विसारिआ ई औखे लफ़ज़ां दे मानी दरवेश: फ़ारसी...