کلاسک

    
 

मुड्ढला वरका > हिंदी विचार > आखिआ वारिस शाह ने > हीर वारिस शाह बंद: 24

हीर वारिस शाह बंद: 24

डाकटर मनज़ूर इजाज़

October 25th, 2009

3.5 / 5 (3 Votes)

 

 

नड्ढी सिआलां दी वियाह के लीयावसां मैं करो बोलीया॓ अते ठठोलीआं नी
बहै घत्त पीड़्हा वांग मुहरिया॓ दे होवन तुसां जिहीआं अग्गे गोलीआं नी
मझो वाह विच बोड़ीए भाबीआं नूं होवन तुसां जिहीआं बड़बोलीआं नी
बस करो भाबी असीं रज रहे भर दित्तीआं जे सानूं झोलीआं नी

औखे लफ़ज़ां दे मानी

बोलीआं: मिहने, ताने।
ठठोलीआं: मज़ाक, ठट्ठा। पीड़्हा: कुरसी तर्हां दा बहिन लई चुक्की, आम लोक पीड़्ही ते बहिंदे नें ते वड्डे लोक पीड़्हे ते।
मुहरिआं: सरदारनीआं, मलिका, रानीआं।
गोलीआं: बांदी, कनीज़, ग़ुलाम।
मझो वाह: मज्झ दा मतलब है विचकार जिवें मनजधार, वाह दे माअनी हन, वगणा (पाणी दा किसे वी शैअ दा चल्लणा)। मझो वाह, दा मतलब है वगदे पानी दे ऐन विचकार।
बोड़ीए: ढोईए। बड़बोलीआं: वड्डा बोल बोलन वालिआं, जिउं उरदू विच है "बुड़ मारना"। ख़ोरे बड़्हक वी इस तों ही निकलिआ है ते फड़ मारना दा असल वी बुड़ मारना ही होवे गा। इत्थे मतलब है भरी महिफ़ल विच गल्लां दस्सन वाली।
रज रहे: रज गए, अंगरेज़ी विच इस लई ऐन ठकवां इज़हार है Fed-Up, मतलब हुन असीं तुहाडे तों नक्को नक आगए।

सिद्धा मतलब

[रांझा कहिंदा] तुसीं ताने मार लवो ते ठट्ठे कर लो, पर मैं हुन सिआलां दी कुड़ी (हीर) ही वियाह के लियावां गा। उह जद इत्थे आवेगी ते सरदारनीआं वांग पीड़्हा डाह के बहोएगी ते तुहाडे जिहीआं उस दे सामने बांदीआं वांग लगन गिआं। भाबीया॓ नूं वगदे दरिआ दे ऐन विचकार (मनजधार) विच डुब देना चाहीदा है, किउं जे इह बड़ीआं बड़बोलीआं नें। भाभी तुसीं हुण बस करो असीं तुहाडे कोलों रज हटे, हुण तुहाडे कोलों नक्को नक आगए हां, तुसीं साडीआं झोलीआं भर दितीआं नें।

खलारवां मतलब

बंद दे विच ही रांझे ने ऐलान करदित्ता सी जो अज मेरे ते तानेआं दे तीर चलाए जा रहे नें ते मेरा ठट्ठा बनाया जा रिहा जो मैं हीर सिआल वियाह के नहीं लिया सकदा। पर मैं हुन उस नूं ही विआह के लियावां गा। उह आवेगी सरदारनीआं ते राणीआं वांग पीड़्हे ते बैठेगी ते तुसीं उहदे साहमने बांदीआं ते कनीज़ां लग्गू गिआं। इस बंद दे तरीजे चौथे मसराए विच रांझा भाबीआं तों अक जान दा विखाला करदा हे ते उन्हां कोलों पूरी तर्हां मायूस हो जांदा है।

एस बंद दे दूजे मसराए तों लगदा है जो अजे रांझा सिरफ़ हीर नूं भाबीआं दी ज़िद्द विच वियाहुन जा रिहा है ते उन्हां तों उत्ते बठावन दा सोच रिहा है। मतलब उस समाज विच ही मुकाबला करन लई इक होर ढंग वरतन जा रिहा है।

इस मसरे नूं दो तर्हां वेखिया जा सकदा है, इक इह जो वारिस शाह इक समाजी डरामा वी करवा रिहा है ते उस दा मुड्ढला किरदार इत्थे इहो कुझ कि सकदा है। दूजा इह वी है जो बग़ावत या नाबरी समाज विच उचा जान दी सद्धर तों वी पैदा हुंदी है, ते समाज घेर विच फसे होए चंगे भले बंदे वी इस मुकाबले दी इल्लत तों बच नहीं सकदे, या बहुत वारी मुकाबले बाज़ी दी झल्लन विच तिलक के डिग पैंदे हन। पर जदों नाबर मैदान विच समाज नाल लड़दे हन ते उन्हां दी होंद बदल जांदी है, उह फिर मुकाबला करन लई नहीं मुकाबले दा समाज मुकाव्न वल टुर पैंदे हन। ख़ुवाजा फ़रीद होरां इस पूरी गल नूं इंज कहिया है:

आईआं पीलू चुणन दे सांगे, ओड़क थीआं फ़रीदन वानगे
छोड़ आराम करार हकीआं बकीआं नी वे
आ चुणो रल यार, पीलू पक्किआं वे

 

More

Your Name:
Your E-mail:
Subject:
Comments: